सरोकार की मीडिया

test scroller


Click here for Myspace Layouts

Thursday, March 23, 2017

एक साथ पढ़ने पर भी लगा दो पाबंदी.....

एक साथ पढ़ने पर भी लगा दो पाबंदी.....


अब भाई पार्क, किला, मंदिर, मस्जिद, कॉफी शॉप, होटल आदि जगहों पर जाने का मन हो तो अकेले ही जाओं, हां दोस्‍तों के साथ भी जा सकते हो, वो भी सिर्फ लड़के होना चाहिए, यदि अब लड़कियों के साथ गए तो क्‍या पता कहीं से एंटी रोमियों स्‍कॉड न आ जाए (महिला पुलिस के साथ) और आपको लड़की के साथ देखकर आपकी हजामत न करने लग जाए.... और हां यदि अब कोई विवाहित पुरूष अपनी पत्‍नी के साथ इन जगहों पर जाने की सोच रहे हो तो शादी की एक दो तस्‍वीरें अपने साथ जरूर रखकर चले….. या फिर कोई आई कार्ड बनवा लीजिएगा जिसको अपने गले में जरूर टांग लीजिएगा.....ताकि कोई पुलिसवाला पूछे तो उसको दिखा सको की हम विवाहित है और य‍ह हमारी पत्‍नी है.....खैर जब सरकार यह चाह रही है कि पार्कों, किलों, कॉफी शॉप, मंदिरों में कपल न दिखें तो उनको एक नया नियम और बना देना चाहिए कि आज से स्‍कूल, कॉलेजों, महाविद्यालयों, विश्‍वविद्यालयों आदि जगहों पर लड़के-लड़कियों के साथ पढ़ने पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए....इनकी टाईमिंग में बदलाव कर देना चाहिए कि सुबह की पाली में लड़कियां पढ़ेंगी और शाम की पाली में लड़के.... और सभी स्‍कूल, कॉलेजों, महाविद्यालयों, विश्‍वविद्यालयों के पार्कों, केंटीनों में फोर्स तैनात कर देना चाहिए ..... और तो और पुरूष शिक्षक सिर्फ लड़कों को पढ़ाएंगे और महिला शिक्षिका सिर्फ लड़कियों को.... यह भी नियम बना दीजिए....ताकि जो आपकी मंशा है वो पूरी हो सकें.... वैसे उत्‍तर प्रदेश सरकार के नए मुख्‍यमंत्री ने सभी एसपी को दिशा निर्देश देकर एंटी रोमियों स्‍क्‍वार्ड का गठन हर जिलों में करवा दिया है यह अच्‍छी बात है महिलाओं और लड़कियों को सुरक्षा मिलेगी... पर स्‍कॉड द्वारा इस तरह पार्कों, किलों, मंदिर, मस्जिद, कॉफी शॉप, होटल आदि जगहों पर बैठे लड़के-लड़कियों को प्रताडित करना, लड़कों को थप्‍पड़ मारना, डंडों से पीटना, उठक-बैठक करवाना, उनके उपर केस लगाना क्‍या जायज है... इससे यह प्र‍तीत होता है कि हम स्‍वतंत्र नहीं है.... अपनी मर्जी से कहीं आ-जा नहीं सकते. बैठ नहीं सकते, घूम नहीं सकते.... हां महिलाओं की सुरक्षा के संदर्भ में यह कदम है तो उन पर कार्यवाही कीजिए जो महिलाओं के साथ छेड़खानी करते हैं, उन पर फब्‍तियां कसते हैं...... आपसी सहमति से.... दोस्‍तों के साथ बैठना, घूमना,आना, जाना, इस पर प्रतिबंध बिल्‍कुल भी जायज नहीं है.... मैं इस बात का विरोध दर्ज करता हूं.... बाकि हमारे मुख्‍यमंत्री जी बुद्धजीवि है... मेरे द्वारा बताए गए कुछ और नियम अपने इस अभियान में जोड़ ले कि आज से स्‍कूल, कॉलेजों, महाविद्यालयों, विश्‍वविद्यालयों आदि जगहों पर लड़के-लड़कियां एक साथ नहीं पढ़ेगे और एक साथ कहीं ना आएंगे ना जाएंगे... तो शायद आपके द्वारा चलाई गई यह मुहीम पूरी हो सकें....

No comments:

Post a Comment