सरोकार की मीडिया

test scroller


Click here for Myspace Layouts

Thursday, September 17, 2015

ललितपुर समाचार, 18 सितंबर,2015 दैनिक सरोकार की मीडिया

ललितपुर समाचार, 18 सितंबर,2015 दैनिक सरोकार की मीडिया



खून से लिखा मुख्यमंत्री को ज्ञापन
भीख नहीं अधिकार चाहिए
ललितपुर। आज दिनांक 17 सितंबर को घंटाघर पर कांग्रेसियों ने अपने-अपने रक्त से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखलेश यादव को ज्ञापन लिखा कि जब जमीन हमारी, पानी हमारा तो हमें बिजली क्यों मुहैया नहीं कराई जा रही है। इसके साथ ही बजाज पावर प्लांट में ललितपुर के युवा बेरोजगार को रोजगार मिलना चाहिए वो अभी तक क्यों नहीं मिल सका है। जबकि नियम यह है कि जिस क्षेत्र में कोई भी कंपनी कार्यरत होती है उस क्षेत्र के लगभग 30 प्रतिशत लोगों को वह कंपनी अपने यहां कार्य मुहैया करवाएगी, परंतु बजाज पावर प्लांट के स्थिति होने के बाद भी इस कंपनी में ललितपुर क्षेत्र का एक भी बंदा कार्यरत नहीं है। यह तो बजाज पावर प्लांट द्वारा ललितपुर क्षेत्र के युवा बेरोजगारों के प्रति नाइंसाफी है। वहीं जिला प्रशासन को इसकी सूचना होने के बाद भी इस संदर्भ में कोई भी कारगर कदर नहीं उठा रही है। इसके साथ-साथ जब जमीन और पानी हमारा होने के बावजूद भी जनपद ललितपुर को 24 घंटे बिजली आखिर क्यों नहीं दी जा रही है यह तो सोचने वाली बात है कि बजाज पावर प्लांट में बनने वाली बिजली आखिर जा कहां रही है। इस संदर्भ में आज समस्त कांग्रेसियों ने अपने खून से मुख्यमंत्री को ज्ञापन लिखा, जिस उन्होंने उपजिलाधिकार को सौंप दिया। ज्ञापन पर अनील जैन, अमित प्रिय, नदी शबनम, राम नरेश दुबे, समद खांन, जसपाल बंटी, आनंद कुशवाहा, सद्दाम, सुरेन्द्र जैन, जयनारायण वालमिक, पी.के. नायक आदि ने अपने-अपने खून से ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
शिक्षामित्रों ने महामहिम राष्ट्रपति से सामूहिक रूप से मांगी इच्छा मृत्यु
सिर पर काला कपड़ा बांध कर निकाला मौन जुलूस
ललितपुर। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने शिक्षामित्रों का सहायक अध्यापक पद पर समायोजन असंवैधानिक बताते हुये इसे रद्द करने का फैसला सुनाया था। इस फैसले का विरोध पूरे राज्य में शिक्षामित्रों द्वारा किया जा रहा है। शिक्षामित्रों का आक्रोश इतना बढ़ गया है कि अब वह महामहिम राष्ट्रपति से सामूहिक रूप से इच्छा मृत्यु की अनुमति मांग रहे हैं। ललितपुर में भी शिक्षामित्रों द्वारा लगातार प्रदर्शन किया जा रहा है। गुरूवार को शिक्षामित्रों ने कंपनी बाग से सिर पर काला कपड़ा बांध कर मौन जुलूस निकाला। तदोपरांत सुन्दर काण्ड का आयोजन किया गया। तो वहीं भारत के महामहिम राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजते हुये सामूहिक इच्छा मृत्यु दिये जाने की भी मांग की गयी।
            कंपनी बाग में संपन्न हुई बैठक में शिक्षामित्रों ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पौने दो लाख शिक्षामित्रों की नियुक्ति वर्ष 2001 में की गयी थी। वर्ष 1998 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने योजना बनाकर शिक्षामित्रों की नियुक्ति का निर्णय लिया था। तब से लेकर वर्तमान तक शिक्षामित्र अपना कार्य ईमानदारी से करते आ रहे हैं। इतना ही नहीं बच्चों को शिक्षण कार्य के अलावा अन्य सरकारी कार्यों में भी शिक्षामित्रों द्वारा महत्वपूर्ण योगदान दिया जा रहा है। बताया कि सरकार ने दूरस्थ बीटीसी कराकर नियमानुसार शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक पद पर समायोजित किया था। बावजूद इसके न्यायालय द्वारा जो फैसला दिया गया है उससे शिक्षामित्रों के परिवार पर भी असर पड़ा है। बताया कि रोजी रोटी का एक मात्र सहारा छिन जाने से प्रदेश में कई शिक्षामित्रों ने तो आत्महत्या जैसा जघन्य कदम भी उठा लिया। उन्होंने महामहिम राष्ट्रपति से समायोजित सहायक अध्यापक पद पर बने रहने की मांग करते हुये अन्यथा की स्थिति में सामूहिक रूप से इच्छा मृत्यु की मांग की है। प्रदर्शन के दौरान नीरज चतुर्वेदी, अजमल खान, भगवत सिंह बैस, मनोहर सिंह बुन्देला, बनवारीसिंह सेंगर, अरूण गोस्वामी, सुदामा प्रसाद दुबे, नंदराम यादव, राघवेन्द्र यादव, दयाराम, सुरेश पटेल, धर्मेंद्र सिंह, अरविंद तिवारी, रविकान्त ताम्रकार, शरीफ खां, राजेश साध, रक्षपाल सिंह बुन्देला, धीरेन्द्र प्रताप सिंह, सुरेन्द्र यादव, आजाद सिंह, पहलवान सिंह, वीरपाल सिंह, आशीष दुबे, योगेन्द्र सिंह, मनोज कुमार, राजेश, आशाराम, कल्पना दीक्षित, साधना, परमानंद, बृजेश टोंटे, बंटी राजा, कुलदीप गोस्वामी, रेखा लिटौरिया, उर्मिला झां, प्रीति सोनी, श्रीनारायण पाण्डेय, गोविंद बिहारी पाण्डेय, सूर्यप्रताप समेत अनेकों शिक्षामित्र मौजूद रहे।
मौन जुलूस में दो महिला शिक्षामित्र हुई बेहोश
हाईकोर्ट द्वारा समायोजन रद्द किये जाने के खिलाफ शिक्षामित्रों ने कंपनी बाग से मौन जुलूस निकाला। यह जुलूस तुवन मंदिर होते हुये वीर तालाबपुरा से शनिचरा चैराहा, घण्टाघर होते हुये स्टेशन रोड की ओर बढ़ रहा था। जुलूस में शामिल उर्मिला झां तुवन मंदिर व प्रीति सोनी भारतीय स्टेट बैंक के पास बेहोश होकर गिर गयीं। जिन्हें प्राथमिक उपचार के लिए चिकित्सालय ले जाया गया।

तीज पर हुये विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान
महिलाओं ने निर्जला व्रत रख किया रात्रि जागरण
ललितपुर। तीज का पर्व पूरे जनपद में अगाद्ध श्रृद्धा व उत्साह के साथ मनायी गयी। तीज त्यौहार पर घर-घर में श्रीजी की भव्य झांकियां सजायी गयीं। तो वहीं मंदिरों में भी धार्मिक अनुष्ठान संपन्न हुये।
            इसी क्रम में मोहल्ला नेहरूनगर में तीज पर्व धूमधाम से मनाया गया। मोहल्ले में जगह-जगह भव्यता से झांकियां सजायी गयीं। महिलाओं ने निर्जला व्रत रखकर विशेष पूजन अर्चन किया। महिलाओं ने रात्रि जागरण कर भगवान भोलेनाथ की उपासना की। तीज का पर्व भगवान भोलेनाथ की विशेष पूजन-अर्चन के लिए मनाया जाता है। इसकी वैदिक मान्यतायें भी काफी महत्वपूर्ण हैं। कहा जाता है कि राजा हिमाचल की पुत्री पार्वती ने भगवान भोलेनाथ का वरण करने के लिए कठिन तपस्या की थी, उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान भोलेनाथ ने उन्हें वरदान दिया था। मनवांछित वर मिलने पर सदियों पूर्व से तीज पर्व के आयोजन किये जाने की परम्परा की शुरूआत हुई थी। महिलायें भी माता पार्वती के जैसा कठिन व्रत रखकर अपने परिवार के सुखमय जीवन की कामनायें करती हैं। तीज पर जगह-जगह भगवान भोलेनाथ के दरबार सजाये गये। तो वहीं महिलाओं ने संगीत के माध्यम से रात भर भजन कीर्तन कर रात्रि जागरण किया। इधर मोहल्ला बड़ापुरा स्थित भगवान शिव-पार्वती परिवार मंदिर पर विशेष अनुष्ठान संपन्न हुये तो वहीं सरदारपुरा में तीज पर्व पर झांकी सजायी गयी। इस दौरान देवेन्द्र राय, पूजा राजा, श्वेता राजा, दीक्षा, रचना राजपूत, समता राजा, बबीता राजा के अलावा अनेकों श्रृद्धालु महिलायें मौजूद रहीं।

धूमधाम व अगाद्ध श्रृद्धा के साथ मनायी गयी भगवान विश्वकर्मा जयन्ती
तुवन मंदिर से निकाली गयी भव्य शोभायात्रा
ललितपुर। सृष्टि के रचियता भगवान विश्वकर्मा की जयन्ती गुरूवार को धूमधाम से मनायी गयी। इस अवसर पर विश्वकर्मा समाज द्वारा तुवन मंदिर प्रांगण से भव्यता के साथ शोभायात्रा निकाली गयी तो वहीं मोहल्ला अजीतापुरा स्थित भगवान विश्वकर्मा एवं हनुमान मंदिर पर पूजन-अर्चन-हवन किया गया।
            विश्वकर्मा जयन्ती पर तुवन मंदिर से शुरू हुयी शोभायात्रा में सर्वप्रथम अश्वों पर सवार सजातीय बंधु धर्म पताका लिये चल रहे थे। उनके पीछे डीजे बैण्ड सुमधुर धुनों पर भजन का गायन करते चल रहे थे। उसके पीछे युवा भजनों की धुनों पर थिरकते हुये चल रहे थे। तो वहीं महिलायें व युवतियां भी भगवान के मनोहारी भजनों पर नृत्य करतीं चल रहीं थीं। उनके पीछे धर्मगुरूओं को बग्गी पर सवार किया गया था तो वहीं भगवान विश्वकर्मा जी के चित्र की झांकियां आकर्षण का केन्द्र बनी हुईं थीं। इधर मोहल्ला अजीतापुरा मंदिर में भगवान विश्वकर्मा का पूजन-अभिषेक किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जगन्नाथ प्रसाद ने सजातीय बंधुओं से अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिये जाने की बात कही। उ.प्र.शाखा सभा सदस्य राजू जांगिड़ ने कहा कि नाथ परम पावनी यह काशी, यही मंह आदि लिंग अनिवासी, विश्वकर्मा ईश्वर शुभ नामा, सुयश प्रसिद्ध सकल गुणधाना। इस दौरान रामनारायण, घनश्याम, गोरख सिंह, अनुराग जैन, कमलेश कुमार, भगवानदास, मनीष, डा.नाथूराम, छिंगेलाल, महेश कुमार, हरचरण पुजारी, कमलेश कुमार, राजू, सुन्दरलाल, मुकेश कुमार, रामगुलाम, संदीप कुमार, कमल कुमार, विवेक, अनिल, मनीष, रामबगस, संतोष, जितेंद्र सिंह, बंटी, महेन्द्र, पुष्पेन्द्र, बबलू आदि मौजूद रहे।

युवा इकाई के जिलाध्यक्ष बने प्रवीण जैन
ललितपुर। संयुक्त उद्योग व्यापार मण्डल की एक बैठक का आयोजन सुभाषपुरा स्थित कार्यालय पर हुआ। बैठक की अध्यक्षता संयोजक सुमित अग्रवाल ने व संचालन रामगोपाल ताम्रकार ने किया।
            अध्यक्षता करते हुये संयोजक सुमित अग्रवाल ने बताया कि व्यापारियों के हितों की रक्षा करने एवं व्यापारियों की प्रत्येक समस्या के त्वरित निस्तारण को लेकर हमारा संगठन सदैव तत्पर रहेगा। कहा कि किसी भी व्यापारी का किसी अधिकारी या कर्मचारियों द्वारा उत्पीडऩ नहीं होने दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही संगठन का विस्तार कर संघर्ष को और मजबूती प्रदान की जायेगी। साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा व्यापारियों के हितार्थ संचालित योजनाओं का लाभ सभी व्यापारियों को दिलाये जाने की प्रमुखता से पहल की जायेगी। मौके पर संगठन का विस्तार करते हुये प्रवीण कुमार जैन नीलकमल को संयुक्त उद्योग व्यापार मण्डल की युवा इकाई का जिलाध्यक्ष मनोनीत किया गया। बैठक में अनिल बाबा, सर्वेश जैन, संजय ताम्रकार कालू, विशाल रावत, हरीराम कुशवाहा, आशीष, शान्त लकी, परवेज पठान, अमित जैन, अतुल जैन, आशीष सोनी, पंकज जैन, नरेन्द्र तिवारी, नसीम बाबा, राकेश जैन, अजय साहू, सचिन नामदेव, दीपक जैन, संतोष राठौर, अमित अग्रवाल, सुरेश कुमार, शानू भारती सहित अनेकों व्यापारी मौजूद रहे।

साधकों को कराया गया योगाभ्यास
ललितपुर। स्थानीय कम्पनी बाग में प्रतिदिन साधकों को योग अभ्यास कराया जा रहा है। शहर में कई लोगों को नियमित योग करने से स्वास्थ्य लाभ पहुंचाया जा रहा है। इसी क्रम में गुरूवार को कम्पनी बाग योग स्थल पर प्रीति जैन, डा.दीपक चैबे, मुकेश साहू के संयुक्त नेतृत्व में फूलचंद्र रजक ने सभी साधकों के समक्ष रबर क्रिया, जल नीति एवं कुंजन क्रिया करके बतलायी। इस दौरान उन्होंने उक्त क्रियाओं से जुकाम, नाक में मांस बढऩा एवं पेट की सफाई के बारे में होने वाले लाभ के बारे में विस्तार से जानकारियां दीं। मौके पर मौजूद अशोक सेन, रामरतन राठौर, बालकिशन साहू, मुन्नालाल प्रजापति, रज्जनलाल शर्मा, अरविन्द अरोरा को जल नीति करायी गयी। इस दौरान अनूप सहाय, धनीराम प्रजापति, सुषमा रजक, सोनू साहू, कैलाश, अभिषेक आदि मौजूद रहे।

ग्रीन हाऊस गैसों के प्रभाव को ऊर्जा बचत से कम किया जा सकता है: शुक्ला
मौसम और जलवायु को समझना विषयक कार्यशाला संपन्न
ललितपुर। बाल विज्ञान कांग्रेस के तत्वाधान में शिक्षकों की मौसम और जलवायु को समझना विषयक एक कार्यशाला का आयोजन वर्णी जैन इंटर कालेज में आयोजित की गयी। कार्यशाला में मुख्य विषय एवं सम्बन्धित 6 उपविषयों पर विस्तार से चर्चा की गयी तथा प्रोजेक्ट बनाने की विधि शिक्षकों को बतायी गयी।
            अध्यक्षता करते हुये प्रधानाचार्य अजब सिंह ने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और मौसम व जलवायु का कृषि से विशेष सम्बन्ध है क्योंकि कृषि मौसम पर निर्भर है। विश्व स्तर पर पृथ्वी का तापमान औसत से ऊपर जा रहा है। जलवायु परिवर्तन हमारी खाद्य सुरक्षा व विकास के रास्ते में सबसे बड़ी बाधा है। इसके कारण ही कहीं सूखा तो कहीं बाढ़ आ रही है। विज्ञान क्लब समन्वयक अमित शुक्ला ने कहा कि ग्रीन हाऊस गैसों के कारण ही पृथ्वी के तापमान में लगातार बृद्धि हो रही है। हमें ग्रीन हाऊस गैंसों को कम करने के लिए ऊर्जा बचाने वाले उपकरणों का दैनिक जीवन में प्रयोग करना चाहिए। इस दौरान प्रवक्ता सजन कुमार शर्मा व डा.विवेक जैन ने भी संबोधित किया। कार्यशाला में जगदेव सिंह चैहान, श्रीराम समाधिया, सूर्यभान यादव, मनोज तिवारी, शैलेन्द्र श्रीमाली, दिनेश चैरसिया, के.पी.बुन्देला, राहुल, जमुना प्रसाद, सतेन्द्र सिंघई, रामजन्म पटेल, लालता राम, सुनील जैन, राजेश तिवारी, शैलेन्द्र जैन, कोमल सिंह, राकेश, करन सिंह, गनपतलाल, अब्दुल मजीद, अब्दुल गनी, शैलेन्द्र सिंह, नरेन्द्र चैरसिया, देशबन्धु नरवरिया, सत्येन्द्र, ब्रजकिशन सोनी, रोहित जैन, अरशद जलील, कमलजीत सिंह, कनक विश्वास, दिनेश सिंह, राजकुमार शर्मा, दीपक तिवारी, आमोल, सुनील कुमार, अविनाश, पुष्पेन्द्र कुमार, कृष्ण कुमार, कल्पना श्रीवास्तव, प्रतिभा श्रीवास्तव, प्रगति सिंह, आरती झा, गीतांजलि सोनी, प्रियंका, अंजली, सुचेता, साधना सिंह, रितु गुप्ता, ज्योति यादव, क्षिप्रा तिवारी, खुश्बू शर्मा, अमरोज जहां, पूनम सिंघई, मुश्तरी बेगम, दीप्ति, रूकैया बानो, सुषमा जैन आदि मौजूद रहे। संचालन धीरेन्द्र जैन व आभार जितेंद्र वैद्य ने व्यक्त किया।

फागिंग कराने की मांग
ललितपुर। बारिश न होने के कारण वर्तमान में भीषण गरमी पड़ रही है। गरमी के बीच मच्छरों का प्रकोप भी बढ़ रहा है। भीषण गरमी के मद्देनजर वार्ड संख्या 14 के पार्षद मु.इदरीश राईन ने नगर पालिका परिषद में एक पत्र देते हुये वार्ड में फागिंग कराये जाने की मांग की है। बताया कि मच्छरों का प्रकोप इस कदर बढ़ गया है कि किसी भी समय डेंगू, मलेरिया के साथ अन्य प्रकार की बीमारियां पैर पसार सकती हैं। कहा कि बीमारियों की रोकथाम के लिए वार्ड में फागिंग कराये जाना आवश्यक है।

अधीक्षक से स्पष्टीकरण तलब
ललितपुर। जिला प्रोबेशन अधिकारी श्रवण कुमार गुप्ता ने राजकीय बाल गृह (बालक) दैलवारा का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने उपस्थिति पंजिका का अवलोकन कर विवरण की जानकारी ली। क्राफ्ट प्रशिक्षक फूलचंद्र ने बताया कि अधीक्षक मुख्यालय गये हुये हैं व मनोवैज्ञानिक अवकाश पर ैं। लिपिक दुर्गा प्रसाद झांसी गये हैं तो वहीं नर्स दामवती, फूलदेवी व चतुर्थ कर्मचारी मौके पर मौजूद मिले। सुरक्षा गार्ड सियाराम पाल, रामचरन कुशवाहा, शिक्षिका अवकाश पर बताये गये। इस दौरान प्रोबेशन अधिकारी ने बच्चों का विश्राम गृह देखा। रसोई का निरीक्षण करने पर गन्दगी पायी गयी, जिसमें अधीक्षक से स्पष्टीकरण मांगने के निर्देश दिये गये।

मुर्दा है वह देश जहां साहित्य नहीं है....
विश्व हिन्दी दिवस पर कवि सम्मेलन का हुआ वृहद आयोजन
ललितपुर। विश्व हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी-उर्दू-अदबी संगम, जिला सरस साहित्य संगम व सृजन भारती विध्यांचल के संयुक्त के तत्वाधान में कवि सम्मेलन का आयोजन कवि गोष्ठी सभागार में किया गया। अध्यक्षता पूर्व प्राचार्य उत्तमचंद्र राकेश ने की।
            कार्यक्रम संयोजक वरिष्ठ कवि शिखरचंद्र मुफलिस ने हालात पर रचना पढ़ते हुये कहा श्लव जिहाद में फंसती और सुलझती है, नाक और मुंह ढ़क कर आतंकी लगती है्य को खूब सराहा गया। उन्होंने आगे कहा श्अंधकार है वहां जहां आदित्य नहीं है, मुर्दा है वह देश जहां साहित्य नहीं है्य संचालन करते हुये रामकृष्ण कुशवाहा ने कहा श्विश्व में हिन्दी का सम्मान होना चाहिए, हिन्दी से राष्ट्र की पहचान होना चाहिए, विचारों की अभिव्यक्ति में समर्थ है हिन्दी, भाषाओं में हिन्दी का प्रथम स्थान होना चाहिए।्य को काफी सराहा गया। दशरथ प्रसाद पटेल ने कहा हो रहा हिन्दी विहीन राष्ट्र कुछ करो, भाषा बदल रही है आप कुछ करो। रमेश पाठक ने कहा इस देश के न्यायालयों में न्याय कैसे होते हैं, जवानी के जुर्म की सजा लोग बुढ़ापे में ढोते हैं। अन्य वक्ताओं में सुदेश सोनी, प्रशान्त श्रीवास्तव, रामस्वरूप नामदेव, सोनिया प्रभाकरन, पुरुषोत्तम नारायण पस्तोर, पंकज अंगार, एम.एल. भटनागर मामा, सुमन लता शर्मा, विजय नारायण रावत ने भी अपनी एक से बढ़कर एक उम्दा रचनाओं को पढ़ा, जिन्हें सुनकर श्रोताओं ने करतल ध्वनि से स्वागत किया। इस अवसर पर श्रीराम नामदेव, हुकुमचंद्र वैद्य, किशन सिंह, विनोद कुमार, सुधर सिंह, हेमंत सिंह, अटल बिहारी रावत, वासुदेव सिंधी, हिमांशु राठौर, महेश नामदेव, गेंदालाल सतभैया, पत्रकार अजय बरया, रवि चुनगी, डा.हुकुमचंद्र पवैया, रामप्रकाश शर्मा, समाजवादी विचारक राजेन्द्र रजक, हरीश कुमार, अम्ब्रीश कुमार, आयुष, राजाराम नामदेव, शिवम अग्निहोत्री, नंदराम किलेदार, वीरेन्द्र सिंह के अलावा मंजूलता सरोज, मनीषा, पूनम जैन समेत अनेकों लोग मौजूद रहे। अंत में कार्यक्रम संयोजक वरिष्ठ कवि शिखरचंद्र मुफलिस ने सभी का आभार व्यक्त किया।

आज से शुरू होगा क्षेत्रपाल मंदिर में संस्कारों का शंखनाद
पर्यूषण पर्व पर आर्यिका पूर्णमति माता जी के सानिध्य में विविध धार्मिक आयोजन
ललितपुर। संयम त्याग और आराधना का महापर्व पर्यूषण आर्यिका पूर्णमति माताजी के ससंघ सानिध्य में आज से ललितपुर में शुरू हो रहा है। मुख्य आयोजन क्षेत्रपाल मंदिर में होगा जहां श्रावक संस्कार शिविर के माध्यम से करीव एक हजार से अधिक श्रावक-श्राविका इस महामहोत्सव में पूजन आराधना करेंगे यहां आर्यिका श्री द्वारा श्रावकों को संस्कारों का बोध कराया जाएगा।
            आर्यिकारत्न पूर्णमति माताजी के सानिध्य में 10 दिवसीय श्रावक संस्कार शिविर का आयोजन 18 सितम्बर से क्षेत्रपाल मंदिर में हो रहा है। शिविर में सुबह से प्रार्थना, सामायिक प्रतिक्रमण, आचार्य भक्ति, अभिषेक, शान्तिधारा-पूजन, 9 बजे से आर्यिकाश्री द्वारा तत्वार्थ सूत्र पर आधारित मांगलिक प्रवचन, 10.30 बजे आहार चर्या विश्राम, दोपहर 1 बजे सामायिक, 1.45 बजे शिक्षण विधान तत्वार्थ सूत्र का वाचन एवं विभिन्न सांस्कृतिक धार्मिक आयोजन, अपरान्ह 3.45 बजे दशधर्म पर आधारित आर्यिकाश्री द्वारा विशेष प्रवचन, 5.15 बजे अल्पाहार सायं 6.30 बजे आचार्य भक्ति शंका समाधान सायं 7.15 बजे आरती, 8.15 बजे भव्य ध्यान शिविर  एवं रात्रि 9-10 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम  रात्रि 10-30 बजे से प्रातरू 4 बजे तक सभी शिविरार्थियों का मौन रहेगा। शिविर में बाहर से आये शिविरार्थियों के अलावा जनपद से करीब तीन सौ से अधिक शिविरार्थी देश के विभिन्न स्थानों पर विराजमान दिगम्बर जैन आचार्य, साधुओं के सानिध्य में होने वाले संस्कार शिविरों में हिस्सा लेने के लिए गए हैं।

शिविर में मिलेगी जीवन जीने की कला: पूर्णमति
ललितपुर। आर्यिका पूर्णमति माताजी ने क्षेत्रपाल मंदिर में श्रावक संस्कार शिविर की पूर्ववेला में धर्मसभा को सम्बोधित करते हुए कहा शिव अर्थात मोक्ष की इच्छा रखने वाला सच्चा शिविरार्थी है। शिविर वह केन्द्र है जहां ज्ञान के माध्यम से शिविरार्थी संस्कारित होते हैं और मोक्ष के लिए भावना भाते हैं। दस दिन के गृहत्याग पर आर्यिका श्री ने कहा कि विवेकी घर छोडकर निकलते हैं और अज्ञानी निकाले जाते हैं। जो व्यक्ति घर छोडकर निकलते हैं वह धर्म का सहारा लेकर अपना जीवन संवारते हैं और गुरू के सानिध्य में आत्मकल्याण करते हैं।  शिविर को जीवन जीने की कला बताते हुए उन्होने कहा कि शिविरार्थी रूप नहीं स्वरूप देखता है और आत्मा का बोध करता है। उन्होने कहा कि रूप बने बंधन मिटे ,चिता जली कई बार, जन्म मरण के योग को दोहराया कई बार अर्थात अपने आपको जिन्होने पहचान लिया समझो उसने जीवन की अनंत निधियां प्राप्त कर ली। आर्यिका श्री ने पर्यूषण पर्व में लगने वाले शिविरों को श्रावकों के लिए उपयोगी बताते हुए कहा कि जहां-जहां साधुओं के सानिध्य में शिविर लग रहे हैं वहां कल्याण का मार्ग शिविरार्थियों के लिए प्रशस्त हो रहा है जहां पयूर्षण पर्व के दस धर्माे के सार का बोध होता है। धर्मसभा में मप्र सरकार के पूर्व पुलिस महानिदेशक आर.के.दिवाकर ने आर्यिकाश्री को श्रीफल भेंट कर आशीर्वाद ग्रहण किया।

मुख्यमंत्री के आगमन पर होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम
ललितपुर। राजकीय इण्टर कालेज के हाल में मुख्य मंत्री अखिलेश यादव के आगमन की तैयारियों में 24 घण्टे पूर्व से सांस्कृतिक कार्यक्रमों, विकास गीत देश गीत एवं बुन्देलखण्ड भाषा के लोकगीत लोकनृत्य की सकारात्मक तैयारी का अबलोकन जिला विद्यालय निरीक्षक एसपी यादव एवं जिला बेसिक शिक्षाधिकारी चन्द्रचूड़ दुबे ने स्वयं उपस्थित होकर किया। उक्त कार्यक्रमो की प्रस्तुति मुख्यमंत्री के आगमन पर 20 सितम्बर को की जायेगी। जिलाधिकारी के निर्देश पर उक्त प्रस्तुति बेसिक एवं माध्यमिक विद्यालयों से की जानी है।

निधन पर जिला बार ने जताया शोक
ललितपुर। जिला बार एसोशियेशन की एक आपातकालीन शोकसभा प्रभारी अध्यक्ष शम्भू शर्मा की अध्यक्षता में संपन्न हुई। सभा में जिला बार के वरिष्ठ अधिवक्ता व पूर्व उपाध्यक्ष हरीराम राजपूत के पूज्यनीय पिताजी काशीराम जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया गया। जिला बार ने दिवंगत आत्मा की शांति हेतु दो मिनिट का मौन धारण कर ईश्वर कामनायें कीं। सभा में मनोहर सिंह ठाकुर, खुशीलाल, कुंजन सिंह, जगदीश सिंह, सुरेन्द्र सिंह, आनंद जैन, नवीन पटेल, रामसिंह, विजय पटेल, सी.पी.संज्ञा, अजय सिंह, हरदयाल, केदारनाथ, जयराम, विन्द्रावन, दर्शन बड़ौनियां, शिववर्ण, श्रीबल्लभ करौलिया, जितेंद्र सराफ, केहर सिंह, हिमांशु हुण्डैत, काशीराम कुशवाहा, रमेश कुशवाहा, प्रीतिम सिंह, बलराम, जगदीश प्रसाद, सुखानंद, रामपाल निरंजन, सुनील, कैलाश नारायण आदि मौजूद रहे। सभा का संचालन महामंत्री राजेश देवलिया ने किया।

देशी शराब की दुकान पर तोडफ़ोड़
ललितपुर। कोतवाली क्षेत्रांतर्गत ग्राम बम्हौरी निवासी पुष्पेन्द्र पुत्र परमानंद राय ने एक शिकायती पत्र कोतवाली पुलिस को सौंपते हुये बताया कि वह ग्राम कल्यानपुरा में देशी शराब की दुकान पर सेल्समैन के पद पर कार्यरत है। बताया कि विगत रात्रि करीब 12 बजे जब वह दुकान बंद करके सो रहा था कि तभी गांव में रहने वाला तालन लोधी आया और शराब मांगने लगा। जब दुकान बंद होने की बात कही गयी तो उक्त युवक ने गाली-गलौच कर दुकान का दरवाजा तोड़ दिया और देशी शराब की पेटियां उठाकर फेंक दीं। इतना ही नहीं आरोप है कि उक्त युवक ने जान से मारने की धमकी भी दी। पीड़ित ने उक्त युवक के खिलाफ कार्यवाही किये जाने की मांग की है।

ज्ञान परीक्षा 10 अक्टूबर को
ललितपुर। अखिल गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वाधान में सामाजिक, सांस्कृतिक एवं अध्यात्मिक पुनरूस्थान के लिए ज्ञान परीक्षा का आयोजन आगामी 10 अक्टूबर को किया गया है। जिला समन्वयक राजाराम यादव एवं परीक्षा प्रभारी पूरन सिंह निरंजन ने संयुक्त रूप से बताया कि इस परीक्षा में कक्षा 5 से स्नातक व परास्नातक के विद्यार्थी प्रतिभाग करते हैं। उन्होंने जिले के सभी विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं से पंजीकरण कराने की अपील की है।

No comments:

Post a Comment