सरोकार की मीडिया

test scroller


Click here for Myspace Layouts

Monday, September 7, 2015

दैनिक सरोकार की मीडिया 08 सितंबर, 2015

दैनिक सरोकार की मीडिया 08 सितंबर, 2015

गुणवत्ता विहीन ड्रेस मिलने पर प्रधानाध्यापक व एसएमसी अध्यक्ष पर दर्ज होगी एफआईआर
डीएम ने प्रभारी बीएसए को जारी किये कड़े निर्देश
ललितपुर। परिषदीय विद्यालयों में बच्चों को शिक्षा के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गणवेश वितरण किया जा रहा है। परन्तु जनपद स्तर पर कुछ लोगों ने ड्रेस वितरण योजना में सेंध लगायी हुई है। विद्यालयों में की जा रही ड्रेस वितरण में लगातार मिल रहीं शिकायतों को संज्ञान लेते हुये जिलाधिकारी जुहेर बिन सगीर ने ललितपुर के प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी चन्द्रचूड़ दुबे को निर्देश जारी किये है। जानकारी देते हुये प्रभारी बीएसए चन्द्रचूड़ दुबे ने बताया कि जनपद के कतिपय परिषदीय विद्यालयों में घटिया गुणवत्ता की डे्रसों का वितरण छात्र-छात्राओं को किया जा रहा है। इसके सम्बन्ध में जिलाधिकारी महोदय ने विद्यालय प्रबन्ध समिति के खातों में जो ड्रेस निर्माण के लिए धनराशि भेजी गयी थी, उससे प्रधानाध्यापक तथा अध्यक्ष विद्यालय प्रबन्ध समिति ड्रेस निर्माण एवं वितरण के लिये पूर्ण रूप से उत्तरदायी होंगे। जिलाधिकारी ने जारी निर्देशों में स्पष्ट किया कि यदि विभागीय निर्देशों की क्रय समिति द्वारा पालन नहीं किया गया तो प्रधानाध्यापक व प्रबन्ध समिति अध्यक्ष दोनों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। कहा कि जिला स्तरीय जांच समिति की जांच में यदि घटिया गुणवत्ता की ड्रेस का वितरण पाया जाता है तो दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जायेगी। जांच समिति की जांच में अद्योमानक की ड्रेस का वितरण पाये जाने पर कठोर दण्डात्मक कार्यवाही करने के लिए डीएम ने प्रभारी बीएसए को निर्देशित किया है। साथ ही इस मामले में सम्बन्धित खण्ड शिक्षा अधिकारी का भी उत्तरदायित्व निर्धारित किये जाने के निर्देश दिये हैं।

मृतक किसान के आश्रितों को माँगी पांच लाख की आर्थिक सहायता
भारतीय किसान यूनियन भानु ने डीएम को दिया ज्ञापन
ललितपुर। खरीफ फसल में पीला रोग लगने से चिन्तित किसान द्वारा की गयी आत्महत्या के मामले में सोमवार को भारतीय किसान यूनियन भानु ने आश्रित परिवार को पांच लाख रुपये का मुआवजा दिलाये जाने के साथ-साथ खेती के लिए भूमि उपलब्ध कराये जाने की मांग को पुरजोर तरीके से उठाया। इस मामले में जिलाधिकारी जुहेर बिन सगीर ने ठोस कार्यवाही किये जाने का आश्वासन दिया है।
            भारतीय किसान यूनियन भानु जिलाध्यक्ष बॉबी राजा पटसेमरा ने ज्ञापन से डीएम को अवगत कराया कि विगत दिनों जनपद के सभी गांवों के बकाया किसानों को पिछले वर्ष बर्बाद हुई रबी की फसल का मुआवजा दिलाये जाने की मांग पुरजोर तरीके से उठायी गयी थी। इसके साथ ही इस वर्ष बारिश कम होने के कारण खरीफ की फसल में पीला रोग लग गया है। इस पर उन्होंने डीएम से फसलों का तत्काल सर्वे कराते हुये क्षतिपूर्ति का आंकलन कर मुआवजा दिलाये जाने की मांग उठायी। मण्डल अध्यक्ष नरेश पाठक ने डीएम को बताया कि विगत वर्ष का मुआवजा अभी तक किसानों को न मिलने से किसानों की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गयी है। भाकियू भानु ने डीएम को बताया कि विगत दिनों ग्राम मसौराखुर्द निवासी प्रताप प्रजापति पुत्र बालचंद्र ने फसल बर्बाद होने के कारण आत्महत्या कर ली थी। जिस पर उन्होंने प्रताप प्रजापति के आश्रित परिवार को पांच लाख रुपये का मुआवजा व खेती के लिए जमीन दिलाये जाने की मांग को प्रमुखता से उठाया। अन्यथा की स्थिति में उन्होंने आंदोलन करने की चेतावनी दी। ज्ञापन देते समय मण्डल अध्यक्ष नरेश पाठक, जिलाध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह उर्फ बॉबी राजा पटसेमरा, अयोध्या प्रसाद निरंजन, गोपाल सिंह, लोकेन्द्र सिंह लम्बरदार, राघवेन्द्र सिंह सिसौदिया, राजेन्द्र सिंह, बलवंत सिंह राजपूत, भरत गौतम, राजेन्द्र तिवारी, प्रमोद तिवारी, खलक सिंह, चन्द्रपाल सिंह, बिजेन्द्र सिंह, जालम, जितेंद्र सिंह, बृजेन्द्र सिंह परमार, बृषभान सिंह, रामसिंह, शेर सिंह, ज्ञान सिंह, सुरेन्द्र सिंह बुन्देला, मोहन सिंह, बालकिशन, राममोहन, प्रमोद, खिलान सिंह, पर्वत सिंह, गनेश, रामसिंह, भरत सिंह, गिन्नी राजा, धनीराम, केशवदास, रामकेशव, कोमल सिंह, बलराम पटेल, डा.प्रबल सक्सेना, संजय कुमार लिटौरिया, अमित तिवारी समेत अनेकों किसान मौजूद रहे।

जनता की आवाज बनेगी कांग्रेस पार्टी: मिस्त्री
राष्ट्रीय महासचिव ने कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में किया संबोधित
ललितपुर। पिसनारी बाग में जिला कांग्रेस कमेटी के तत्वाधान में कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय महासचिव मधुसूदन मिस्त्री मौजूद रहे तो वहीं विशिष्ट अतिथि सचिव जुबेर खान व पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य मौजूद रहे।
            सम्मेलन में मुख्य अतिथि राष्ट्रीय महासचिव मधुसूदन मिस्त्री ने कहा कि केन्द्र में आने के लिए भाजपा ने लोगों की भावनाओं से खिलबाड़ किया है। भाजपा ने भोलीभाली जनता को लोक लुभावने दिव्य स्वप्न दिखाकर वोट झटक लिये। उसके बाद अब विदेश यात्राओं में व्यस्त रहे। देश की जनता के समक्ष भाजपा का चेहरा आ चुका है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये आगामी पंचायत चुनाव के लिए मजबूती से खड़ा होने की बात कही। कहा कि चुनाव के लिए कार्यकर्ता पूर्ण मनोबल से तैयार रहें। इसके अलावा सचिव जुबेर खान ने कहा कि कांग्रेस की नीतियां आज भी जनकल्याणकारी साबित हो रहीं हैं। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष दुर्गा प्रसाद कुशवाहा, नगराध्यक्ष हरीबाबू शर्मा, अमित प्रिय जैन, अनिल जैन सीमा, समद खां, रामस्वरूप देवलिया, रामनरेश दुबे, अंकित यादव, वायजू राजा, ममता, पार्वती झा समेत अनेकों लोग मौजूद रहे।

आचार्य श्रेष्ठ को जैन समाज ललितपुर ने किया श्रीफल अर्पित
ललितपुर जैन पंचायत का एक प्रतिनिधि मण्डल बीना बाराह सागर में विजरामान आचार्य श्रेष्ठ विद्यासागर जी महाराज के चरणों में श्रीफल अर्पित करने बीरावाराह तीर्थस्थल पर पहुंचा जहां आचार्यश्री के दर्शन करने के उपरान्त आशीर्वाद ग्रहण किया। गौरतलव रहे आर्यिका पूर्णमति माता जी के आशीर्वाद से ललितपुर में अहिंसक आन्दोलन का दौर शुरू हुआ जिसमें भारी संख्या में श्रद्धालुओं ने मण्डन कराकर संथारा के विरोध में प्रदर्शन किया और सामाजिक एकता की एक मिशाल कायम की।  आचार्यश्री को जैन पंचायत के महामंत्री डा.अक्षय टडैया, संयोजक प्रदीप जैन सतरवांस समेत सैकडों की संख्या में धर्मालुजन पहुंचे थे और गुरूदेव का जयजयकार लगाकर भारी धर्मप्रभावना की।





वन रैंक वन पैंशन पर भाजपाईयों ने जताया हर्ष

ललितपुर। भाजपा की एक बैठक जिलाध्यक्ष प्रदीप चैबे की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें सैनिकों की वन रैंक, वन पैंशन को पूरी कर सैनिकों को कृष्ण जन्माष्टमी का भरपूर तोहफा दिया है। कहा कि कांग्रेस सिर्फ शोर मचाने वाली ओर विघ्र डालने वाली पार्टी है इससे कोई भी काम नहीं हो सकता। और उन्होंने यह भी कहा है कि इन 42 सालो में ज्यादातर कांग्रेस की सरकार केन्द्र में रही तब कांग्रेस क्या करती रही क्यों नहीं उसने इसे लागू किया। यह सिर्फ कांग्रेस की चाल है जो भाजपा पर सिर्फ लाछंन लगाने का कार्य कर रही है। इस दौरान बब्बू राजा बुंदेला, राजकुमार चूना, अशोक गोस्वामी, देवेन्द्र गुरू, जगदीश सिंह, नरेन्द्र सिंह, लखन सिंह, भरत सिंह, अजय पटैरिया, किंजल हुण्डैत, भरत पुरोहित, रवीन्द्र, श्याम विहारी कौशिक, शीतल सिंह आदि उपस्थित रहे।

प्रधान संपादक की कलम से...........
नारी मांग रही अपनी देह पर अपना अधिकार
कुछ अधिकार प्रत्येक व्यक्ति को जन्म से ही मानवोचित गुण होने के कारण प्राप्त होते हैं. ये अधिकार मानव की गरिमा बनाए रखने के लिए अति आवश्य्क हैं. इन अधिकारों का प्रभुत्व संदर्भ लैंगिक वैमनस्य के कारण मानवीय लक्ष्य को कमजोर बनाता है. ऐतिहासिक रूप से मानवीय विकास के साथ-साथ पुरुषों के सापेक्ष महिला अधिकारों में कमी को देखा जा सकता है .
समकालीन समाज में नारी का अस्तित्व् पहले की तुलना में कही अधिक संकट में हैं. नारी पर दिनों-दिन अत्याअचारों की संख्या में इजाफा हो रहा है, चाहे वो निम्न वर्गीय परिवार की हो या फिर उच्च वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखती हो. अबोध बालिकाओं से लेकर वृद्धाओं पर भी अत्याचार हो रहे हैं. सरकारी और गैर-सरकारी संगठनों के  आंकडे चीख-चीखकर बयां करते हैं कि किस तादाद में महिलाओं पर अत्याचार हो रहा है? और किस तरह से उनके अधिकारों का हनन किया जा रहा है? निसंदेह, वैदिक काल से चली आ रही मान्यताओं को तोडती आज की नारी अपने अधिकारों के प्रति सचेत है. अपने अधिकारों और अधिकारों की लडाई लडते हुए आधुनिक नारी ने समाज में अपनी अलग पहचान बनाने की संकल्पना धीरे-धीरे ही सही, लेकिन मजबूती के साथ शुरू कर दी है. आज वो बाल्याकवस्था में पिता, युवावस्था में पति तथा वृद्धावस्था में पुत्र पर निर्भरता आदि बंदिशें तोडकर अपनी देह पर स्वाधिकार की मांग कर रही है.  नारी देह पर नारी के अधिकार का विमर्श एक व्यापक .ष्टिकोण की मांग करता है. इस संदर्भ में पाश्चारत्य देशों में नारी की स्थिति भी तीसरी दुनिया की महिलाओं से कुछ खास अलग नहीं है. हालांकि, पश्चिमी देशों में नारी मुक्ति आंदोलन ने जिस गति से वैश्विक स्तर पर महिलाओं के अधिकारों को लेकर मुहिम चलाई है, उसका प्रभाव आज हर जगह देखा जा सकता है, महसूस किया जा सकता है. अब पुरानी मान्याताओं के विपरीत महिलाएं खुद महसूस करने लगी हैं कि उनके शरीर पर पुरुष का अधिकार नहीं होगा. अपने शरीर की मालकिन वह स्वयं होगी.  साथ ही में आज महिलाओं के खान-पान से लेकर रहन-सहन के तरीकों में बहुत बडा बदलाव देखा गया है. स्त्रियों के वैश्विकरण में हर जगह खुलेपन की मांग पर मतैय की पुरजोर कोशिश की जा रही है कि- मेरी देह-मेरी देह.और मात्र मेरी देह.
भारतीय महिलाएं पश्चिमी देशों की स्त्रियों द्वारा अपनाए गए खुलेपन को अपना आधार मानती हैं और उसके लिए तमाम स्त्रीवादी नारियों ने आंदोलन आरंभ कर दिए हैं जिसकी ध्वनि शायद अभी हमारे कानों तक नहीं सुनाई दे रही है. परंतु, ये आंदोलन एक दबे हुए ज्वालामुखी के समान धधक रहा है, जो कभी भी फट सकता है और संपूर्ण समाज को अपनी चपेट में ले लेगा. इन आंदोलन को न तो दबाया जा सकता है और न ही इसकी छूट दी जा सकती है. क्यों कि, नारी मुक्ति और अधिकार का प्रश्न निरपेक्ष नहीं है, इसलिए इस पर खासकर भारतीय परिवेश में एक खुली बहस का होना अनिवार्य प्रतीत होता है. आज नारी मुक्ति आंदोलन का रूख जिस खुलेपन को बढावा दे रहा है, जिस स्वच्छंदता को अपना रहा है, उसे नारी मुक्ति के नाम पर सामाजिक विघटन, नैतिक एवं मानवीय पतन जैसे परिणामों के साथ स्वीकार नहीं किया जा सकता.
व्यवहारिक धरातल पर ऐसा महसूस होता है कि नारी मुक्ति आंदोलन के सारे प्रयास अपने मूल स्वरूप व लक्ष्य से हटकर कहीं और भटक गया है. नारी मुक्ति के तमाम प्रयास मानव संसाधन और विकास से जुडा हुआ होना चाहिए. लेकिन नारी विमर्श के केंद्र  से यह ज्वतलंत मुद्दा लगभग गायब है, नारी मुक्ति का मतलब पुरुषों का विरोध नहीं है बल्कि पुरुषवादी मानसिकता का विरोध है जो किसी-न-किसी रूप में सामाजिक एवं मानवीय संसाधन के विकास मार्ग में बाधक है. अफसोस की बात यह है कि नारी अधिकार की समझ आज जिन महिलाओं के पास है उनकी बढ़ी तदाद मॉल कल्चकर, पबकल्चर आदि में न केवल आस्था रखती हैं, बल्कि उसका पोषण भी करती हैं. खुद को आधुनिक और सशक्त मानने वाली अधिकांश महिलाओं के लिए नारी देह पर अधिकार का प्रश्न् मानव संसाधन एवं विकास का प्रश्न नहीं है. उनकी सोच का मुख्य केंद्र दुर्भाग्यवश शारीरिक खुलापन है, आंशिक या पूरी नग्नवता................ बिना किसी रोक-टोक के. मशहूर मॉडल पूनम पांडे  का क्रिकेट विश्वकप के दौरान का .त्य किसी भी रूप में नारी मुक्ति और विकास से जुडा हुआ नहीं माना जा सकता. देह का प्रश्न निःसंदेह व्यक्ति विशेष से जुडा हुआ है. हर व्यक्ति प्रा.तिक रूप से अपने शरीर का स्वामी होता है लेकिन शरीर का स्वामित्व उसके व्यक्तिगत विकास से जुडा हुआ है, सामाजिक एवं नैतिक विकास के साथ-साथ उसके समग्र एवं चंहुमुखी विकास से जुडा हुआ है. नारी का अपनी देह पर मौलिक अधिकार है और कोई व्यक्ति इसका हनन नहीं कर सकता. आज राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कानून भी इसकी संतुुष्टि करते हैं. लेकिन देह पर अधिकार का प्रश्न आज केवल मुक्त सेक्स की अवधारणा तक सिमटकर रह गया है. निजी तौर पर समाज की सुशिक्षित, आधुनिक, सशक्त महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों से मैं अपील करता हूं कि नारी देह के प्रश्न को मुक्त सेक्स की अवधारणा से मुक्त कर मानवीय संसाधन एवं विकास के साथ जोडकर देखें.                      
                         ........डॉ. गजेन्द्र प्रताप सिंह


कचरे में पलती जिंदगियां......... और गांधी का स्वच्छ भारत
स्वच्छ भारत की संकल्पना हमारे प्रधानमंत्री जी ने की, पर गंदगी तो कहीं से न तो साफ हुई न तो साफ होती दिखी। गंदगी जस की तस बनी ही रही। हां यह और बात है कि छायाचित्रों में आने के लिए इन कर्मचारियों, नेताओं ने कोई कसर नहीं छोड़ी। वैसे सफाई करते हुए इनकी तस्वीरे बड़ी उम्दा किस्म की आई जैसे मानों सच में सफाई कर रहे हो। क्यों उम्दा नहीं आती, बकायदा कैमरा मैन बुलाए गए थे तस्वीरों को लेने के लिए............ ताकि उनका मीडिया में महीमा मंडन करवाया जा सके। और उनकी यह साजिश मीडिया ने कामयाब भी की..............छाप दी, चला दी.....मीडिया में....... झांडू के साथ उनकी तस्वीरें ताकि लगे की वो वास्तव में इस देश से गंदगी दूर करना चाहते हो। गंदगी साफ करनी है तो अपने घर के बाहर साफ कीजिए जहां हर रोज आप अपने घर को साफ करके कचड़ा फेंक देते हैं। गंदगी साफ करनी है तो अपने दिल को साफ करें जिसमें न जाने किस-किस प्रकार के कचड़े कई वर्षों से पड़े-पड़े सड़ रहे हैं। जिनमें पता नहीं कब से बू आ रही है। गंदगी साफ करनी है तो देश से अमीरी गरीबी का भेद मिटा कर करें जो सबसे बड़ी गंदगी को जन्म देती है। गंदगी साफ करनी है तो भूख को मिटा कर करें जो हर एक जुर्म का जन्म देती है।
अगर वास्तव में गांधी के सपना को मोदी पूरा करने चाहते थे तो उन मासूम बच्चों के बारे में भी जरा सी फिकर कर लेते जो कचरे में अपनी जिंदगी गुजार देते हैं, एक निवाले के खातिर। जरा सा आप लोग भी सोचिए.......अगर खुद से समय मिल जाए तो.......सिर्फ जरा सा.............?????????


संथारा समर्थन पर झांसी विधायक को किया गया सम्मानित
ललितपुर। श्री क्षेत्रपाल मंदिर में वर्षा योग में चल रही धर्मसभा में रोजाना हजारों श्रद्धालु आर्यिका माता के आशीर्वचन को पहुंच रहे हैं। इसी क्रम में झांसी विधायक रवि शर्मा को संथारा का समर्थन करने पर सम्मानित किया। रविवार को आयोजित धर्मसभा में झांसी के विधायक रवि शर्मा ने यहां पहुंचकर श्रीफल भेंट किया और आर्यिका माता से आशीर्वाद लिया।
जैन समुदाय द्वारा संथारा के समर्थन में मुंडन कराकर शांतिपूर्वक आंदोलन में सहयोग करने के लिए जैन पंचायत समिति द्वारा उन्हें किया गया। विधायक के साथ रवि नारायण चैबे, धर्मेंद्र गोस्वामी, संजीव बजाज, नीरज जैन गौना, सुजीत तिवारी, ओमबिहारी भार्गव, आशीष तिवारी, चंद्रशेखर दुबे, अरविंद सिंघई, घनश्याम साहू के अलावा नरेंद्र जैन, छोटे पहलवान, अंतर्राष्ट्रीय शतरंज खिलाड़ी निखिल जैन, संजीव सोनी को भी सम्मानित किया गया।
इस मौके पर पंचायत समिति संयोजक प्रदीप सतरवास, महामंत्री अक्षय टड़ैया, प्रबंधक राजेंद्र जैन थनवारा, पार्षद मोदी पंकज जैन आदि मौजूद रहे।

जिला व क्षेत्र पंचायत की आरक्षण सूची जारी
डीएम ने देर शाम लगायी मोहर, राजनैतिक गलियारों में तेज हुई हलचल
ललितपुर। आसन्न त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन में जिला व क्षेत्र पंचायत की आरक्षण सूची देर शाम जारी कर दी गयी। जिलाधिकारी जुहेर बिन सगीर ने आरक्षण सूची पर मोहर लगाते हुये इसे जारी किया है। सूची के प्रकाशन होते ही जिले के राजनैतिक गलियारों में हलचलें तेज हो गयी हैं। कई संभावित प्रत्याशियों को सूची मनमाफिक लगी तो कईयों के होश भी इसी सूची के जारी होने से उड़ गये।
            जिला पंचायत व क्षेत्र पंचायत सदस्यों के आरक्षण तिथि पर देर शाम जिलाधिकारी जुहरे बिन सगीर ने अंतिम मुहर लगा दी, जिसके बाद सूची को प्रकाशित कर दिया गया। सूची प्रकाशित होते ही मनमाफिक सीट न मिल पाने से कई महीनो से अपनी सीट पर चुनाव की तैयारी कर रहे लोगों को झटका लगा तो कईयों के चेहरे खिल उठे हेै। पहली बार जिला पंचायत सदस्य के लिये निर्मित हुई चारों सीटे आरक्षण में चली गई, जहां एक सीट अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति व दो बैकवर्ड के लिये आरक्षित की गई है। देर शाम सूची जारी की गई, जिसके अनुसार वार्ड नं. 11 बालाबेहट अनुसूचित जनजाती महिला, वार्ड नं. 13 सौंरई अनुसूचित जाति महिला, वार्ड नं.14 मड़ावरा अनुसूचित जाति महिला, वार्ड नं. 9 बिरधा अनुसूचित जाति, वार्ड नं. 8 जाखलौन अनुसूचित जाति, वार्ड नं. 19 कैलगुवां पिछड़ाबर्ग महिला, वार्ड नं. 20 बार पिछड़ा वर्ग महिला, वार्ड नं. 4 थाना पिछड़ा वर्ग, वार्ड नं. 15 सैदपुर पिछड़ा वर्ग, वार्ड नं. 2 खांदी पिछड़ा वर्ग, वार्ड नं. 17 सिलावन सामान्य स्त्रियां, वार्ड न.10 खितवांस सामान्य स्त्रियां, वार्ड नं. 1 पूराकलां अनारक्षित, वार्ड नं.4 जखौरा, वार्ड नं.5 थनवारा, वार्ड नं. 6 बांसी, वार्ड नं.7 बुढ़वार, वार्ड नं. 12 नाराहट, वार्ड नं. 16 गुढ़ा, वार्ड नं. 18 बानुपर, वार्ड नं. 21 पारौन अनारक्षित की गई है। इधर सीटों का आरक्षण घोषित होते ही कई सम्भावित प्रत्याशियों के होश उड़ गये क्योंकि उनकी सीट मनमाफिक नहीं आई जबकि वह लोग लंबे समय से चुनाव की तैयारियो में जुट गये थे, सबसे ज्यादा झटका तो बालाबेहट, जाखलौन, मड़ावरा, सौंरई से चुनाव लडऩे की मंशा रखे प्रत्याशियों को लगा है। इन क्षेत्रो पर कई प्रत्याशियों द्वारा पूर्व से ही तैयारियां प्रारम्भ कर दी गई थी। यह सीटें आरक्षण में चली गई।


बहुप्रतीक्षित सड़क का निर्माण कार्य शुरू
तालाबपुरा से गोविंद सागर बाँध व मंदिरों तक सुगम होगा रास्ता
ललितपुर। शहर की सबसे महत्वपूर्ण सड़क जो कि वीर सावरकर चैक से गोविंद सागर बाँध व वर्णी चैराहा को जोडऩे का कार्य करती है। इस मार्ग पर नृसिंह मंदिर, बालाजी मंदिर, छोटी देवी मंदिर, सीतापाठ, मां शारदा मंदिर, सुधासागर सहित जल निगम कार्यालय, एग्रो कार्यालय, सरस्वती ज्ञान मंदिर, बाहूबलि जिम, रोटरी पब्लिक स्कूल और जल बिहार मेला के अलावा जनपद के दो महत्वपूर्ण मकर संक्रान्ति व जल बिहार आदि का सम्बन्ध इस सड़क से है। यह सड़क वर्षों से जीर्णशीर्ण अवस्था में थी। लगभग 20 वर्षों से सड़क खराब होने के कारण लोगों को आवागमन में भारी परेशानियां होती थी। मोहल्ला की समस्या को प्रमुखता से लेते हुये वार्ड संख्या 13 के पार्षद जगदीश यादव ने अथक प्रयास करके नगर पालिका बोर्ड में प्रस्ताव पास करवाकर तालाबपुरा की सड़क निर्माण का महत्वपूर्ण कार्य किया है। इस सड़क के निर्माण में नपाध्यक्ष सुभाष जायसवाल का सहयोग भी है। सोमवार को पं.जगमोहन तिवारी के सान्निध्य में पार्षद जगदीश यादव ने सड़क का निर्माण कार्य विधि पूर्वक शुरू कराया गया। इस अवसर पर निर्माण लिपिक हबीब खान, नजूल लिपिक प्रदीप सिंह सौंरयाल, जेई विपिन कुमार, लक्ष्मी नारायण विश्वकर्मा, बाबूलाल यादव, परमानंद यादव, हरनारायण साहू, श्रीराम यादव, मनोहर सिंह यादव, अजय कश्यप, नीरन सिंह, विनोद रैकवार, राकेश, पूर्व पार्षद महेन्द्र सिंदवाहा, रामस्वरूप रैकवार, करन सिंह, भज्जू यादव, रामकिशोर मुखिया, राजपाल यादव, अजय यादव, भारत सोलंकी, राजकुमार यादव, धनीराम साहू, वीरन यादव, शंकर, राजू, सुकुमाल जैन, संदीप यादव, पुष्पेन्द्र, डा.संजय यादव, नरेन्द्र, अरविंद, सुदीप, विश्वजीत, जेपी राय, रोहित यादव, देवेन्द्र, सुशील, मुन्ना श्रीवास्तव, विक्रम सिंह, संतोष सोनी, नरेश यादव, शुभम यादव, ब्रजेश दुबे, रोशन, प्रहलाद सहरिया, कल्लू सेन, राजू शर्मा, पवन, प्रताप सिंह, तिलक यादव, लखन लाल, सुनील, अमर सिंह आदि मौजूद रहे।

गोविंद सागर बाँध में कराया जाये जल बिहार
ललितपुर। वार्ड संख्या 14 के पार्षद मो.इदरीश राईन ने एक पत्र जिलाधिकारी को भेजते हुये गोविंद सागर बांध में जल बिहार कराये जाने की मांग की है। पत्र में पार्षद ने बताया कि सुम्मेरा तालाब में सफाई व्यवस्था का कार्य कच्छप गति से चल रहा है। जिस कारण तालाब में गंदा पानी भरा हुआ है और शाम के समय पानी से बदबू भी आती है। उन्होंने कम बारिश होने के कारण बांध का जल स्तर नीचे होने के कारण आगामी समय में पेयजल समस्या की समस्या खड़ी होने की भी संभावनायें व्यक्त की। उन्होंने जल बिहार की शोभायात्रा तालाबपुरा से करीमनगर होते हुये सीतापाठ कालोनी से गोविंद सागर बाँध में जल बिहार कराये जाने की मांग उठायी है।

चिन्तन शिविर में बुन्देलखण्ड के सजातीय बंधुओं को जुटाने का निर्णय
ललितपुर। निषाद रायकवार सेवा समिति की एक बैठक मुन्ना बाबू की अध्यक्षता व मोहनलाल रायकवार के संचालन में संपन्न हुई। बैठक में सर्वसम्मति से विगत 25 वर्षों से अनुसूचित जाति में शामिल करने के लिए जो मांग चली आ रही है, उसमें बुन्देलखण्ड के रायकवार, धीवर, केवट, कहार समाज को अनुसूचित जाति में शामिल करने के लिए नई रूपरेखा-रणनीति तैयार किये जाने का निर्णय लिया गया। चिन्तन शिविर में बुन्देलखण्ड के झांसी, महोबा, उरई, हमीरपुर, बाँदा, चित्रकूट जनपदों के सजातीय नेता भाग ले रहे हैं। बैठक में मुन्नालाल बाबू, मोहनलाल रायकवार, संतोष रायकवार, रमेश रायकवार, बंटी, रामकिशोर, संदीप लेखपाल, दिनेश रायकवार, रज्जन बाबू, श्यामलाल, काशीराम केवट, अशोक, हरनारायण, बाबूलाल, बाबूलाल चैकीदार, सुरेश पेन्टर, मूलचंद्र माते आदि मौजूद रहे।

बारिश के मौसम में भी बूंद-बूंद पानी की मारामारी
ललितपुर। ललितपुर के पठारी धरती में इस बार सूखे के हालात उत्पन्न हो गये हैं। वर्षा काल का दो माह से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी बेहतर बारिश न होने से भूगर्भ जल स्तर नहीं बढ़ सका। हालात यह है कि आधे से अधिक हेण्डपम्प जवाव दे गये हंै। वहीं बिजली की कटौती व लो वोल्टेज के चलते जनपद में पेयजल पुर्नगठन योजना के तहत की जाने वाली पेयजल आपूर्ति भी बाधित है।
वैसे प्राचीन कुंओं मे लोगों की भारी भीड उमड रही है। बारिश न होने से हालात और भी भयावह होने के आसार पैदा हो रहे हैं। बुन्देलों को आशंका सता रही है कि यदि इस बार भी बेहतर बारिश न हुई तो आने वाले मई जून के माह में बूंद-बूंद पानी को लेकर जग छिडना तय हैं।
कुछ भी हो लेकिन पानी को लेकर चारों ओर हायतौबा मची हुई है। वही भूगर्भ जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है। दूर दराज स्थ्ज्ञित जलश्रोतों में पानी भरने को लेकर लोगों की लम्बी लम्बी कतारें लग रही हैं। पहले पानी भरने को लेकर अक्सर मारपीट व खून खराबा होने की घटनायें आम बात हो गई है।

प्रधानमंत्री बंद करें मन की बात’: मनोज
जालौन। प्रदेश के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डा. मनोज कुमार पांडेय ने सोमवार को यहां कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को श्मन की बातश् बंद कर देनी चाहिए। उन्हें गरीब, किसान, बेरोजगार व बुंदेलखंड के विकास की बात करनी चाहिए। श्मन की बातश् से किसी का कोई भला नहीं हो रहा है।
सोमवार को माधौगढ़ विकास खंड के 12 करोड़ रुपये के विकास कार्यो का लोकार्पण व शिलान्यास करने आए पांडेय ने कहा कि ओलावृष्टि से फसलों की बर्बादी को देखते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तत्काल राहत राशि जारी कर किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान की, लेकिन केंद्र सरकार ने आर्थिक सहायता में एक भी रुपये प्रदेश सरकार को नहीं दिया।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने कार्यकाल में गरीबों, किसानों, बेरोजगारों के लिए सर्वाधिक कार्य किया है, इसलिए पंचायत चुनाव में 90 फीसद सीटों पर सपा का परचम लहराएगा। इसके साथ ही सरकारी स्कूलों में राज्य कर्मचारियों के बच्चों को पढ़ाने के हाईकोर्ट के निर्णय का सरकार समर्थन कर रही है और सरकार भी ऐसा चाहती है।
इस मौके पर जिलाधिकारी राम गणेश, पुलिस अधीक्षक एन कोलांचि, पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी, श्रीराम पाल, सपा जिलाध्यक्ष धीरेन्द्र यादव, सोहराब खान, कुंवर लाल, कमर अहमद, प्रलुव्य निरंजन, मांडवी निरंजन, वीरेन्द्र यादव, सिद्धार्थ यादव, बाल जी सोनी व हिमांशु ठाकुर आदि मौजूद रहे।

वैचारिक शक्ति में प्रवलता से ही कल्याण: आर्यिकाश्री
ललितपुर। आर्यिका पूर्णमति माताजी ने धर्मसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि सत्य के वगैर जीवन अधूरा है जिसने जीवन में सत्य की पहचान कर ली समझो उसने अपना जीवन सुधार लिया। भावनाओं से जीवन में वैचारिक शक्ति प्रवल हेाती है और उसी से कल्याण का मार्ग प्रशस्त होता है। आर्यिकाश्री ने प्रेरक संस्मरण सुनाते हुए कहा कि साधू तपस्चरण के माध्यम से अपनी साधना को करते है ओैर अपना जीवन संवारते हें उनका आचरण इतना पवित्र होता है कि उसके सानिध्य में रहने से सन्मार्ग की प्राप्ति होती है। आर्यिकाश्री ने कहा कि जीवन का प्रत्येक क्षण बहुमूल्य है जिससे अमरत्व की प्राप्ति होती है इसको जिसने समझ लिया समझो अमरत्व की प्राप्ति होती है।
            क्षेत्रपाल मंदिर में धर्मसभा को सम्बोधित करते हुए आर्यिकाश्री ने श्रावकों से जीवन का कुछ समय धार्मिक कार्याे में लगाने के लिए प्रेरित किया। धर्मसभा का शुभारम्भ मंगलाचरण से हुआ । श्रावक श्रेष्ठी स्वतंत्र मोदी अध्यक्ष मदनपुर तीर्थ क्षेत्र कमेटी रहे जिन्होने आर्यिकाश्री को शास्त्र भेंट कर पुण्र्याजन किया। डूगरपुर से अमित जैन ने आर्यिका श्री को श्रीफल भेंट किए जिनका जैन पंचायत की ओर से बाहुबलिनगर के प्रतिनिधि सभा सदस्य अनीता सहारा, पंकज जैन गदयाना, अमित जैन, अभिशेक जैन, देवेन्द्र गुरसराय ने अतिथियों को प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

उत्तर प्रदेश में फर्जी पत्रकारों की छानबीन शुरू
नोएडा। सोशल मीडिया पर बढ़ते फर्जी पत्रकारों की संख्या से परेशान उत्तर प्रदेश पुलिस ने फर्जी पत्रकारों के विरूद्ध कार्यवाही शुरू कर दी है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ऐसे पत्रकारों के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी जो- 1. कोई पत्रकारा जिसके पास संस्था का नियुक्ति संबंधी पत्र नहीं है। 2. संस्था का वैध आई कार्ड नहीं है। 3. स्थानीय प्रशासन को उसकी नियुक्ति की जानकारी नहीं है। 4. सोशल मीडिया पर फर्जी न्यूज गु्रप चला रहे एडमिन भी रहेंगे पुलिस निशाने पर।

प्रत्येक जीव के प्रति सम्मान भाव भारतीय संस्कृति का संदेश: दुलीचंद्र जैन
इन्दौर में करूणा इंटरनेशनल का क्षेत्रीय सम्मेलन संपन्न
ललितपुर। भारतीय जीव जन्तु कल्याण बोर्ड चैन्नई द्वारा मान्यता प्राप्त अहिंसा, शाकाहार, जीव दया एवं पर्यावरण संरक्षण आदि कार्यों में सतत संलग्न वैश्विक प्रतिमान संस्था करूणा इण्टरनेशनल चैन्नई का क्षेत्रीय सम्मेलन इन्दौर में संपन्न हुआ। सम्मेलन में देश के प्रतिष्ठित शिक्षाविदों, पत्रकारों, लेखकों व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।
            मुख्य अतिथि भारतीय जीव जन्तू कल्याण बोर्ड के चेयरमैन सेवानिवृत्त मेजर जनरल डा.आर.एम.खर्ब ने सर्वप्रथम दीप प्रज्जवलन किया। इस दौरान हुकुमचंद्र सांवला को गौरक्षा अवार्ड, डा.सुधीर खेतावत को जीव दया अवार्ड, करूणा इंटरनेशनल ललितपुर व मड़ावरा को संयुक्त रूप से उत्.ष्ट करूण केन्द्र अवार्ड से सम्मानित किया गया। जिसे ललितपुर केन्द्र संयोजक सुधाकर तिवारी ने ग्रहण किया। मोर संरक्षण के लिए अजय सिंह निरूका को करूणा श्री अवार्ड देकर सम्मानित किया गया। करूणा इंटरनेशनल के चैयरमेन दुलीचंद्र जैन ने कहा कि शिक्षा के साथ संस्कार होना आवश्यक है। प्रत्येक जीव के प्रति सम्मान भाव भारतीय संस्.ति का संदेश है। राष्ट्रीय अध्यक्ष कैलाश मल दुग्गड़ ने बताया कि संस्था समस्त प्राणी जगत के प्रति प्रेम, अहिंसा व करूणामय जीवन शैली, पारस्परिक सौहार्द के साथ व्यसनमुक्त जीवन, प्र.ति, पशु-पक्षी व पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता, कर्तव्य परायणता के साथ मानवीय मूल्यों की स्थापना के लिए प्रयत्नशील है। इन्दौर शाखा अध्यक्ष डा.सुधीर खेतावत ने बताया कि आज हमारा पर्यावरण अत्यंत दूषित हो चुका है। जंगलों से पेड़ तेजी से काटे जा रहे हैं, जिससे जंगल में रहने वाले जानवरों को शहर की ओर पलायन करना पड़ रहा है। इस दौरान कैलाश चंद्र खण्डेलवाल, आनंद माहेश्वरी, डा.अनीता ठाकुर ने भी अपने विचार रखे। ललितपुर केन्द्र अध्यक्ष सुधाकर तिवारी के साथ श्रीमती राजेश्वरी त्रिवेदी, संध्या तिवारी, पुष्पेन्द्र जैन, शैलेष तिवारी आदि ने कार्यक्रम में प्रतिभाग किया।


जल बिहार पर्व पर हो तालाब की सफाई
विश्व हिंदू परिषद् ने सौंपा जिलाधिकारी को ज्ञापन
ललितपुर। श्री रामलीला हनुमान जयंती महोत्सव समिति द्वारा सनातन धर्म का मुख्य त्यौहार जल बिहार पर्व बड़ी धूम धाम एवं आस्था के साथ मनाया जाता है, जिसमें हजारों की संख्या में सनातनधर्मी धर्म लाभ उठाते हैं। इस संदर्भ में विश्व हिंदू परिषद द्वारा जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर कहा कि जल बिहार एवं उसके बाद पितृ पक्ष तथा कार्तिक स्थान के लिए भारी संख्या में लोग तालाब पर लोग आते हैं। ज्ञात हो कि इस वर्ष वर्षा कम होने के कारण तालाब में पानी बहुत कम है। इसके साथ-साथ अभी तक तालाब की सफाई भी नहीं कराई गई है। विश्व हिंदू परिषद ने जिलाधिकारी महोदय से अनुरोध किया है कि सारे हिंदू कार्यक्रमों को संज्ञान में रखकर गंभीरता से लेते हुए तालाब की सफाई त्यौहारों से पहले तथा आस-पास सफाई की उचित व्यवस्था कराई जाए। ताकि तालाब पर आने वाले भक्तगणों को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े। ज्ञापन पर उमाशंकर बिदुआ, डाॅ. प्रबल सक्सेना, अखिल कौशिक, राकेश, रत्नेश तिवारी, अवधेश कौशिक, बृजभान, सुधांशु शेखर हुंडैत, शैलेश मिश्र, राजकुमार, धनंजय मिश्रा, प्रसांत शुक्ला, चन्द्र शेखर राठौर आदि के हस्ताक्षर मौजूद थे।

आंगनबाड़ी केन्द्रों में वजन दिवस मनाया गया
ललितपुर। आंगनबाड़ी केन्द्र नदीपुरा व बड़ापुरा में वजन दिवस मनाया गया। इस दौरान एएनएम, कार्यकत्रियों व सहायिका द्वारा बच्चों का वजन माप किया गया। साथ ही कुपोषण से बच्चों को बचाव के तरीके बताये गये। पर्यवेक्षक अशोक श्रीवास ने मोहल्ला नदीपुरा स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र पर औचक निरीक्षण कर वजन दिवस कार्यक्रम को देखा। इस दौरान उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकत्री रामेश्वरीसिंह को बताया कि किस प्रकार से बच्चों का वजन करना है और किस प्रकार से बच्चों को कुपोषित होने से बचाया जाना है। इस दौरान बड़ापुरा आंगनबाड़ी केन्द्र पर एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकत्री सुषमा लखेरा के साथ सहायिका फिरादोश परवीन ने भी बच्चों को एकत्र कर उनका वजन किया।

वृक्षारोपण आज
ललितपुर। क्लीन ललितपुर ग्रीन ललितपुर संस्था द्वारा धार्मिक स्थलों पर वृक्षारोपण कराने के क्रम में 8 सितम्बर को शाम 5 बजे बाबा हजरत सदनशाह दरगाह परिसर में वृक्षारोपण कराये जाने का निर्णय लिया है। यह जानकारी देते हुये संस्था सदस्य कैलाश अग्रवाल ने बताया कि वृक्षारोपण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी जुहेर बिन सगीर मौजूद रहेंगे।

No comments:

Post a Comment