सरोकार की मीडिया

test scroller


Click here for Myspace Layouts

Saturday, April 24, 2010

अकेला बस अकेला

अकसर ऐसा होता है कि जिससे आप प्रेम करते हैं उससे शादी नहीं हो पाती। मन में एक गांठ बांध लें, प्रेम किसी से, शादी किसी से, यह एक कड़वी सच्चाई है, जिसका सामना हर लड़के-लड़कियों को करना पड़ता हैं, जो प्यार करता है, प्यार के झूठें वादे करता है वह सफल हैं। जो सच्चा प्यार करता है उसे हर धड़ी, हर वक्त उसी की याद सताती रहती है वह यह सोचता रहता है कि मेरी शादी उससे नहीं हुई, जिससे मैंने प्यार किया, कसमें खाई और साथ जीने-मरने के वादें किये, अब तन्हा जी रहा हूं उसकी यादों के सहारे। मर जाऊगां उसके बिना, अकेला बस अकेला।

No comments:

Post a Comment